Principles of Development विकास के सिद्धांत – CTET -TET Exam STUDY NOTES

Image Credit: gradestack

(Principles of Development )जैसा की आप सभी जानते है की CTET परीक्षा 2016 जो 18.09.2016 को अयोजित होगा। इस परीक्षा में अंगर आप अच्छे अंक प्राप्त करना चहते है तो आपको इन  विषय को समझना बहुत जरूरी है जो है – वृद्धि और विकास की अवधारणा , (Concept of Growth and Development ) , पियाजे का संज्ञानात्मक विकास सिद्धांत ( Piaget’s Cognitive Development Theory ) , वैयक्तिक विभिनताएँ ( Individuals Differences ) समावेशी शिक्षा (Inclusive Education ) आदि है – आप की अच्छी सफलता के लिए हम कुछ study notes आप के साथ share कर रहे है , उम्मीद है आप को ये CTET Notes   Exam की तयारी को  सफल बनाएँग ।  – आज का विषय है – विकास के सिद्धांत

विकास के सिद्धांत  Principles of Development

विकास की प्रक्रिया एक जटिल व निरन्तर चलने वाली प्रक्रिया होती है I यह जन्म से मृत्यु तक चलती रहती हैं। यह विकास की प्रकिया अनियमित रूप से नही बल्कि धीरे धीरे क्रमबद्ध वह निशिचत  समय पर होती है । धीरे धीरे उसका लम्बाई भार क्रियात्मक क्रियाएं प्रत्यक्षीकरण सामजिक समायोजन आदि का विकास होता है । अध्यापको को उस आयु के सामान्य बालको के शारीरिक , मानसिक , सामाजिक व संवोगत्मक परिपक्वता स्तर का ज्ञान होना चाहिए जिससे वे बालकों को सही दिशा प्रदान कर सकें ।

वैसे तो विकास के सिद्धांतो के विषय मे विद्वानो के अपने – अपने विचार है लेकिन कुछ ऐसे सर्वमान्य सिद्धांत है जो सभी क्षेत्रो पर लागू होते है। और सभी वचारक उनका समर्थन करते है जो निम्न प्रकार से है ।

  1. निरन्तरता का सिद्धांत ( Principles of continuity ) विकास की प्रक्रिया कभी नही रुकने वाली प्रक्रिया है अर्थात यह जन्म से लेकर मृत्यु तक चलती रहती है बाल्कि वैज्ञानिक तरीके से देखे तो विकास की प्रक्रिया माँ के गर्भ में ही शुरू हो जाती है । बालक का जन्म दो कोषो (Cells) अर्थात शुष्क ( sperm ) ओर अड़ ( ovum ) के निषेचन के परिणामस्वरूप होता है। और कई पारिवर्तनों का अनुभव करते हुए यह निषेचित अड़ मानव बनकर विकास के कई पक्षो की ओर बढ़ती है । इस प्रकार विकास की प्रक्रिया धीरे- धीरे चली रहती है ।
  2. एकरुपता का सिद्धांत ( Principles of uniform pattern ) विकास की प्रक्रिया में एकरूपता दिखाई देती है चाहे व्यक्तिगत विभिन्नतण कितनी भी हो लेकिन यह एकरूपता विकास के क्रम के सदर्भ मे होती है । उदाहरण – बालकों मे भाषा का विकास एक निशिचत क्रम से होगा चाहे वे बच्चे किसी भी देश के हो। बच्चो का शारीरिक विकास भी एक निशिचत क्रम में ही होगा अर्थात वह सिर से प्रारम्भ होता हैं इस प्रकार हम देखते है कि बच्चो के विकास की गति में तो अन्तर हो सकता है लेकिन विकास के क्रम मे एकरूपता पायी जाती है जैसे हम देखते है कि बच्चो के दूध के दाँत पहले टूटते है।
  3. बाहरी नियंन्त्रण के आन्तरिक नियंन्त्रण का सिद्धांत  ( Principles of outer control to inner ) : छोटे बच्चे मूल्यो व सिद्धांतो के लिए दूसरो पर निर्भर करते है जैसे -जैसे वे स्वंय बड़े होने लगते है तो उनके स्वंय के सिद्धांत मूल्य, प्रणाली, स्वंय की आत्मा व स्वय का आंतरिक नियन्त्रण विकसित होने लगता है I
  4. मूर्त से अमूर्त का सिद्धांत ( Principles of correct to abstract ) : मानसिक विकास की शुरुआत भौतिक रूप से उपीस्थत वस्तुओ के बारे में चिंतन करके होता है। जो वस्तुओ को देखने के सिद्धांत का अनुसरण करता है जो अमूर्त रूप मे होती है और बालक इसके प्रभाव व कारण को समझने का प्रयास करता है ।
  5. एकीकरण का सिद्धांत  (Principles of integration) : इस सिद्धांत के अनुसार बालक पहले सम्पूर्ण अंग को और उसके बाद उसके विशिष्ट भागो को चलाना व प्रयोग करना सीखता है और बाद में उन भागे का एकीकरण करना सीखता है । जैसे पहले बच्चा पूरे हाथ को और बाद में उसकी उगंलियो को हिलाने का प्रयास करता है ।
  6. सामान्य से विशिष्ट के विकास का सिद्धांत (Principles of development from specific ) : इस सिद्धांत के अनुसार बालक पहले सामान्य बतो की और बाद में उन सभी सामान्य बातों को मिलाकर एक विशिष्ट सिद्धांत बनाना सीखता है । जैसे बच्चा पहले व्यकित का नाम , स्थान और वस्तु का नाम जानता है और बाद में जनता है कि किसी व्यक्ति वस्तु या स्थान के नाम संज्ञा कहते हैं इस प्रकार बालक का विकास सामान्य से विशिष्ट की ओर होता है ।
  7. विकास की भविष्यावाणी का सिद्धांत ( Principle of predictability of development ) : अब तक के सिद्धांत से यह भी स्पष्ट हो चुका है कि विकास की भविष्यवाणी  अब की जा सकती है । जैसे यह पता लगाया जा सकता है कि बच्चे की रूचि क्या है? बालक को सम्मान की आवश्यकता है या नहीं ? उसकी अभिरूचियाँ  और वृद्धि आदि ।
  8. विकास की दिशा का सिद्धांत (Principle of Individual difference) : जैसाकि पहले बताया जा चुका है कि बच्चे के विकास की शुरुआत सिर से होती है । और उसकी टाँगे सबसे बाद में तैयार होती है । विकास की दिशा के सिद्धांत को भ्रण ( Embryo) के सिद्धांत के आधार पर तीन भागों में विभाजित किया जा सकता है।

A —-> सिर से पाँव की ओर । B ——> रीढ़ की हड्डी से बाहर की ओर । C ——> स्वरूप के बाद क्रियाए

(9) वैयक्तिक भिन्नताओं  का सिद्धांत ( Principle of Individual difference ) शिक्षा मनोविज्ञान में देखा जाता है कि मनोवैज्ञानिक वैयक्तिक भिन्नताओं के सिद्धांत को महत्वपूर्ण मानते है । चूकि जैसाकि हम जानते है कि विकास की प्रक्रिया को विभिन्न आयु वर्गो में बाँटा गया है । और सभी वर्गो की विशेषताएं अलग अलग होती है और इन आयु वर्गो के व्यवहारों में अन्तर पाया जाता है । जुडॅवा बच्चों मैं भी वैयकितक भिन्नता पायी जाती है । किसी व्यक्ति में कुध विशेषताएं या व्यवहार शीघ्र विकसित होती है तो कुध व्यकितयों में ये विशेषताएं और व्यवहार देरी से विकसित होती है । अर्थात सभी बालको में वृद्धि और विकास के संदर्भ में समानता नहीं पायी जाती है ।

(10) वातावरण और वंशानुक्रम के परिणाम सिद्धांत ( Principle of product of Heredity and environment) : वंशानुक्रम को बच्चे के व्यक्तित्व को नींव माना जाता है । और वंशानुक्रम व वतावरण के प्रभाव को विकास के सिद्धांत से अलग अलग नहीं किया जा सकता है । बच्चे की वृद्धि और विकास वंशानुक्रम व वातावरण दोनो को संयुक्त परिणाम होता है ऐसा कई अध्ययनों से पाता चलता है।

(11) सम्पूर्ण विकास का सिद्धांत (Principle of total development ) : शिक्षा मनोविज्ञान में बालक के सर्वोगींण विकास पर बल दिया जाता है जिसमें बालक का शारीरिक मानसिक सामाजिक संवेगात्मक व मनोगत्यामक विकास सभी पक्ष समिमलित कर लिए जाते है । इन द्वाष्टिकोणा से देखा जाए तो अध्यापक को बालक के सभी पक्षो के विकास की ओर ध्यान देना चाहिए ।

(12) परिपक्वता व अधिगम का सिद्धांत ( Principle of maturation and lossing ) : वृद्धि और विकास की प्रक्रिया वास्तव में परिपक्वता और अधिगम का विकास ही होता है । परिपक्वता से वृद्धि व विकास दोनो प्रभावित होते है । बालक किसी भी कार्य को करने में परिपक्वता ग्रहण कर लेता है और यही परिपक्वता अन्य कर्यो को करने में बालक की मदद करती है । उदाहरणार्थ यदि कोई बालक किसी कार्य को करने के लिए अभिप्रेरित है और वह भौतिक रूप से तैयार नहीं है तो वह बालक उस कार्य को करने मे असमर्थ ही होगा और उस बालक से अधिक आशाएं रखनी भी नहीं चाहिए !

बाल विकास से सम्बंधित एक अन्य महत्वपूर्ण सिद्धांत : One Important Principle Related with child development : पुर्नबलन सिद्धांत ( Reinforcement Theory ) इस सिद्धांत के अनुसार बच्चा जैसे – जैसे अपना विकास करता है , वह अधिगम करता है इस सिद्धांत मे पियाजे का सिद्धांत भी जुड़ा हुआ है कि जैसे – जैसे बालक की वृद्धि विकसित होती हैं वैसे – वैसे उसके अधिगम का दायरा भी बढ़ता है बाल्यावस्था के अनुभवो को आने वाली अवस्था में पुर्नबलन सिद्धांत को देने वाले विचारक डोलार्ड और मिलर (Dollar and Neal miller ) का मानना है कि नवजात शिशु को स्तनपान के व्यवहार से अर्जित भोजन की आवश्यकताओ को हमेश पूरा नहीं कर पाता । उसे अपनी भूख की आवश्यकता को पूरा करने के लिए कुध अधिक स्तनपान के कठिन व्यवहागे को सीखना होता है । इस सम्पूर्ण प्रक्रिया मे चार महत्वपूर्ण अवयव होते है ।

  1. अन्तर्नोद (अभिप्रेरणा) (2) संकेत ( उद्दीपक) (3) प्रत्युत्तर ( स्वंय का व्यवहार ) तथा (4) पुर्ननलन (पुरस्कार)

यह भी पढ़ें

CTET TET Study Notes - Child Centered Education in Hindi
Concept of Education and Education Psychology-शिक्षा और शिक्षा मनोविज्ञान की संकल्पना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here