CSIR NET क्या होता है जाने पुरी जानकारी

CSIR NET क्या होता है 

यह एक राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा है। CSIR NET का फुल फॉर्म council of scientific and industrial research national eligibility test है (वैज्ञानिक और  औधोगिक अनुसंधान परिषद राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा है।) यह परीक्षा सरकारी विश्वविद्यालयों में सहायक प्रोफेसर और जूनियर रिसर्च फेलोशिप के पदों के लिए उम्मीदवारों के पात्रता का आकलन करने लिए कराई जाने वाली परीक्षा है यह परीक्षा राष्ट्रीय स्तर पर साल में दो बार जून और दिसंबर में आयोजित की जाती है।  इस परीक्षा का आयोजन NTA राष्ट्रीय परिक्षण एजेंसी के द्वारा किया जाता है।  

एलिजिबिलिटी 

इस परीक्षा में शामिल होने वाले उम्मीदवारों के एलिजिबिलिटी की बात करें तो निम्न योग्यता प्राप्त छात्र छात्राएं इस परीक्षा में शामिल हो सकते हैं – 

Age limit  :- इस राष्ट्रीय पत्रता परीक्षा में  

शामिल होने के लिए  जूनियर रिसर्च फेलोशिप के लिए निर्धारित अधिकतम आयु सीमा 28 वर्ष है।

आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों के लिए (एसटी /एससी/ विकलांग और महिला उम्मीदवारों के लिए 5 साल तक की छूट मिल सकती है।और। ओबीसी, अन्य उम्मीदवारों के लिए 3 साल तक की छूट संभव है।

लेक्चररशिप के  candidates लिए कोई age limit नहीं है

 शैक्षणिक योग्यता  :-  विभिन्न विषयों में

परीक्षा के लिए पात्रता निम्मलिखित है – 

जीवन विज्ञान 

आवेदक के पास एमएससी की डिग्री होनी चाहिए जिसमें 55%अंक (एसटी / एससी के उम्मीदवारों को तथा ओबीसी के उम्मीदवारों को न्यूनतम 50%)की डिग्री होना सुनिश्चित है।

रसायन विज्ञान:

आवेदक के पास एमएससी की डिग्री होना चाहिए जिसमें 55%अंक (एसटी / एससी के उम्मीदवारों को तथा ओबीसी के उम्मीदवारों को रसायन विज्ञान में  न्यूनतम 50%)की डिग्री होना सुनिश्चित है।

भू विज्ञान 

आवेदक के पास एमएससी की डिग्री होनी चाहिए  जिसमें 55%(एसटी / एससी के उम्मीदवारों को  तथा ओबीसी के उम्मीदवारों को 50%)की डिग्री होना सुनिश्चित है। साथ ही पृथ्वी विज्ञान,भी विज्ञान,भू भौतिकी,वायुमंडलीय विज्ञान, समुद्र विज्ञान तथा अन्य विषयों में भी समकक्ष डिग्री होना चाहिए।

गणितीय विज्ञान 

आवेदकों के पास एमएससी की डिग्री होना चाहिए गणित सांख्यिकी या मुख्य विषयों में से एक के रूप में गणित सांख्यिकी से संबंधित विषय में न्यूनतम 55% अंकों से उत्तीर्ण होना चाहिए (ST /SC/ OBC के उम्मीदवारों के लिए 50 % ) की डिग्री होना सुनिश्चित है।

See also  बीएससी B.Sc करने के बाद क्या करे?

भौतिक विज्ञान 

आवेदक के पास एमएससी की डिग्री होना चाहिए जिसमें 55%( एसटी/एससी/ओबीसी के उम्मीदवारों के लिए 50%)के साथ भौतिक विज्ञान में डिग्री होना सुनिश्चित है।साथ इन सभी विषयों में जीवन विज्ञान में जैव प्रौद्योगिकी में बी.टेक तथा बाकी के विषयों के लिए इंजीनियरिंग में बी.टेक की डिग्री का होना स्वीकार्य होगा ।

 नागरिकता  :- इस प्रतियोगी पात्रता परीक्षा 

में शामिल होने के लिए उम्मीदवार को भारतीय नागरिकता यानी भारत के नागरिक होना आवश्यक है।

 CSIR NET syllabus

CSIR NET syllabus में जीवन विज्ञान , पृथ्वी विज्ञान, रसायन विज्ञान, गणितीय विज्ञान , भौतिक विज्ञान  सहित विभिन्न वैज्ञानिक विषयों को किया जाता है  जैसे – 

जीवन विज्ञान syllabus 

जीवन विज्ञान के syllabus में विकासात्मक 

जीव विज्ञान, जीवन रूपों की विविधता,सेल संचार और सेल सिग्नलिंग और पारिस्थितिक सिद्धांत,अंतः क्रिया सेल्युलर संगठन आदि शामिल है। यह खंड जीवित जीवों ,उनकी संरचना , कार्य और उनके पर्यावरण के साथ वार्तालाप के अध्ययन पर केंद्रित है।

गणितीय विज्ञान syllabus 

गणितीय विज्ञान के syllabus में बीजगणित, रैखिक बीजगणित,जटिल विश्लेषण, टोपोलॉजी, साधारण विभेदक  समीकरण, आंशिक विभेदक समीकरण,विविधताओं की गणना, संख्यात्मक विश्लेषण,रैखिक अभिन्न समीकरण, शास्त्रीय और सांख्यिकी और खोजपूर्ण शामिल हैं। डेटा विश्लेषण,यह खंड गणितीय अवधारणाओं और विभिन्न वैज्ञानिक क्षेत्रों में उनके अनुप्रयोग आदि शामिल हैं।

रसायन विज्ञान syllabus 

रादायन विज्ञान के syllabus में कार्बनिक विज्ञान , अकार्बनिक विज्ञान, भौतिक रसायन विज्ञान शामिल हैं साथ ही इसमें अन्य विषयों को भी शामिल किया गया है। जो कि रसायन विज्ञान की कई शाखाओं की अवधारणाओं को जोड़ने में अहम भूमिका निभाते हैं।

जैसे पृथ्वी विज्ञान syllabus में भू विज्ञान, अनुपयुक्त भू विज्ञान,मौसम विज्ञान ,भू भौतिकी ,भौतिक भूगोल, महासागर विज्ञान शामिल है। यह खंड पृथ्वी की संरचना , प्रक्रियाओं के अध्ययन के साथ साथ,पर्यावरण पर मानवीय गतिविधियों के प्रभाव को भी शामिल करता है।

भौतिक विज्ञान syllabus 

भौतिक विज्ञान syllabus में शास्त्रीय यांत्रिकी, विद्युत चुम्बकीय सिद्धांत , क्वांटम यांत्रिकी,थर्मोडायनेमिक, और सांख्यिकीय भौतिकी, भौतिकी के गणितीय तरीके , इलेक्ट्रॉनिक्स और प्रायोगिक तरीके, संघनित पदार्थ भौतिकी और परमाणु और कण भौतिकी शामिल है।यह खंड विद्युत चुंबकत्व, यांत्रिकी ,thermodynamics क्वांटम यांत्रिकी और परमाणु भौतिकी के साथ ही भौतिकी के सिद्धांतों और अवधारणाओं को शामिल करता है।

CSIR NET exam pattern

जैसे कि हमने ऊपर भी या उल्लेख किया है कि यह परीक्षा वैज्ञानिक और औधोगिक अनुसंधान परिषद (CSIR) द्वारा निर्धारित होता है। तथा NTA द्वारा आयोजित की जाती है। CSIR के नवीनतम पाठ्यक्रम के  परीक्षा पैटर्न अनुसार प्रश्न पत्र में तीन भाग होते हैं। जैसे भाग – ए , भाग – बी, भाग – सी  प्रश्न पत्र में बहुविकल्पीय (MCQ) होते हैं।ये प्रश्न 200 अंक के होते हैं। तथा इस परीक्षा में तीन घंटे की समयावधि होती है।

NTA CSIR NET career options 

 यह प्रतियोगी परीक्षा अपने आप में ही उम्मीदवारों के लिए एक चुन्नौती ही है क्योंकि आज के इस competition में एक उम्मीदवार को इस परीक्षा को उत्तीर्ण करना न केवल उम्मीदवार के लिए गर्व और खुशी की बात है बल्कि परिवार व अभिभावकों के लिए भी बड़े सम्मान और गर्व की बात होती है।

इस परीक्षा की सबसे बड़ी और अच्छी बात यह है कि इस परीक्षा को उत्तीर्ण करना केवल डिग्री रखने जैसा ही नहीं है बल्कि इस परीक्षा को उत्तीर्ण कर तथा तैयारी के दौरान विद्यार्थी को बहुत से  ज्ञान व अनुभव प्राप्त होता है। साथ ही विद्यार्थी अपने ज्ञान और अनुभव को दूसरों से साझा कर दूसरों के लिए प्रेरणा का स्रोत,मार्गदर्शक और उनके उज्ज्वल भविष्य का हिस्सा बन सकते हैं।

See also  एनडीए क्या है, एनडीए की तैयारी कैसे करें

CSIR NET की परीक्षा उत्तीर्ण  करने के बाद उमीदवार के पास कैरियर के दो विकल्प प्राप्त होते हैं  JRF और लेक्चररशिप ,इन दोनों कैरियर विकल्प पर विद्यार्थी अपनी पहचान बना सकते हैं ।

इस परीक्षा को उत्तीर्ण कर कुछ वैकल्पिक क्षेत्र 

PHD  करने का विकल्प  :- 

  • CSIR NET JRF उत्तीर्ण करने वाले उम्मीदवार यदि  PhD करने के इच्छुक छात्र छात्राएं हैं तो वे किसी भी मान्यता प्राप्त भारतीय संस्थानों / प्रयोगशालाओं / विश्वविद्यालयों से अपनी पढ़ाई पूरी कर सकते हैं। NTA उन्हें  जुनियर रिसर्च फेलोशिप के लिए योग्य घोषित करती है और उन्हें किसी भारतीय वैज्ञानिक अनुसंधान संस्थान में PhD के लिए नामांकन करने का अवसर प्रदान करती है। PhD के दौरान JRF में CSIR तीन वर्षों के लिए 31000+रूपये एचआरए का वजीफा प्रदान करता है। इस राशि के द्वारा विद्यार्थियों को पढ़ाई के दौरान उन्हें आर्थिक रूप से स्वतंत्र बनाना है
  • CSIR द्वारा निर्धारित मानदंडों के अनुसार JRF में चयनित छात्र छात्राओं के लिए जो PhD कर रहे होते हैं उन्हें SRF (सीनियर रिसर्च फेलोशिप)की स्थिति में एचआरए बढ़ाकर 35000+रूपये कर दिए जाते हैं। भारत में स्थित सभी शोध संस्थान एवं प्रयोगशालाएं PhD के विभिन्न कार्यक्रमों के लिए CSIR योग्य उम्मीदवारों को ही प्राथमिकता प्रदान करती है। क्योंकि ये NET JRF उम्मीदवार अपनी स्वयं की फेलोशिप के साथ आते हैं और इसलिए इनके पास ये अधिकार होता है की ये उन लोगों पर प्रभुत्व प्राप्त करें जो अर्हता प्राप्त नहीं करते हैं।
  • CSIR NET career option PhD karne ke लिए  यदि कोई विद्यार्थी CSIR NET JRF क्वॉलिफाइड है और वह अपनी PhD की पढ़ाई विदेश से पूरी करना चाहता है तो यह CSIR NET प्रतियोगी परीक्षा un उम्मीदवारों के लिए मददगार साबित हो सकती है क्योंकि कई ऐसे विदेशी प्रयोगशालाएं , संस्थान और विश्वविद्यालय जिन्हें मान्यता प्राप्त है ऐसे योग्य उम्मीदवारों अपना विचार व्यक्त करते हैं।

हालांकि उम्मीदवार विदेशों की PhD कार्यक्रम में JRF फेलोशिप के लिए पात्र नहीं होंगे लेकिन ये उम्मीदवार अपनी प्रतिभा और experience के अनुसार ऐसे इच्छुक विद्यार्थी भारत और विदेश से कुछ अन्य फेलोशिप प्राप्त कर सकते हैं।

  • कॉलेजों तथा विश्वविद्यालयों में सहायक प्राध्यापक (LS) के रूप में CSIR NET प्रतियोगी परीक्षा में उत्तीर्ण उम्मीदवार लेक्चरर या ग्रुप लीडर के पद पर कार्यरत होकर अपना भविष्य बना सकते हैं।
See also  12th के बाद पायलट कैसे बने? पूरी जानकारी

जिसके अंतर्गत शिक्षण, अनुदान, प्रयोगशाला के कार्यों का प्रस्तुतिकरण, डॉक्यूमेंट्स की समीक्षा करना आदि ,शोध टीम का प्रबंधन करना, शोध टीम में  शामिल  सभी कार्यरत  व्यक्तियों की निगरानी करना आदि कार्य सम्मिलित हैं।

 साथ ही किसी सरकारी विश्वविद्यालयों में सहायक प्राध्यापक के रूप में  चूंकि यह भी एक बहुत सम्मानित  और प्रमुख पद मानी जाती है 

क्योंकि यदि हम बात करें इस  नौकरी  के लिए आवेदन करने वाले अधिकांशतः उन उम्मीदवारों की प्राथमिकता ज्यादा होती है जो CSIR NET क्वालीफाइड उम्मीदवार हैं। इस तरह ऐसे विद्यार्थी जिन्होंने CSIR NET में अपनी जगह बनाई है वे अधिक संख्या में सीटें प्राप्त करते हैं।

 वेतनमान 

इस पद के वेतनमान की बात की जाए तो UGC 7वें वेतन आयोग के सिफारिशों के अनुसार व्याख्याता के लिए वेतनमान लगभग 37000 – 67000 /- इसे बढ़ाकर 1.31 लाख रुपए तक किया जा सकता है।

सहायक प्राध्यापक के लिए वेतनमान 37000- 67000 /- रूपए है जिसे बढ़ाकर 1.44 लाख रुपए तक किया जा सकता है।

  •  निजी क्षेत्र का चुनाव कर कैरियर बनाना 

उम्मीदवार अपने हुनर,ज्ञान,experience और आर्थिक स्थिति के अनुसार अपना निजी अनुसंधान संस्थान,प्रयोगशालायें 

आदि की स्थापना कर आर्थिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं इस कार्य के लिए उन्हे आवेदन करने ओर सरकारी अधिकारियों से अनुमति लेकर तथा उनके द्वारा पारित दिशा निर्देशों का पालन कर अपने कार्य आगे बढ़ाना अत्यंत आवश्यक है।

कई बार चयनित अनुसंधान परियोजनाओं के लिए शोध अनुदान भी प्रदान किए जाते हैं। 

NET JRF प्रवेश परीक्षा को उत्तीर्ण करने के बाद चयनित उम्मीदवार PhD के प्रसिद्ध विश्विद्यालय से निम्न पदों के लिए योग्य होता है जिनके पदों की सूची तथा वेतनमान निम्न प्रकार है- 

              पद     वेतनमान 
JRF (जूनियर रिसर्च फेलोशिप)31000 /-+ संस्था पर निर्भर 
SRF (सीनियर रिसर्च फेलोशिप )35000 /- + संस्था पर निर्भर
असिस्टेंट प्रोफेसर 45000 रुपए 
एसोसिएट प्रोफेसर 80000 रुपए 
प्रोफेसर 82000 रुपए 

 उपसंहार 

CSIR NET प्रतियोगी परीक्षा न केवल एक परीक्षा है बल्कि उम्मीदवार को अपने जीवन के विभिन्न पहलुओं में महारथ भी  हासिल करने का अवसर प्राप्त होता है।और साथ बहुत से ज्ञान,experience तथा सफलता के विभिन्न अवसर प्राप्त होता है। और साथ ही कैरियर के कई रास्ते खुलते हैं जिन्हे उम्मीदवार अपने हुनर और ज्ञान के अनुसार बढ़ा सकते हैं तथा अपने भविष्य को बेहतर बना सकते हैं। 

CSIR NET की यह प्रतियोगी परीक्षा आपको बहुत ही सुनहरा अवसर प्रदान करती जिससे कि आप अपने हुनर के द्वारा अपनी समाज एक अलग और सम्मानित जगह और पहचान बना सकते हैं और ऊंचाईयों को छू सकते हैं।

FAQs

क्या CSIR NET की प्रतियोगी परीक्षा उत्तीर्ण कर PhD कर सकते हैं?

उत्तर – CSIR NET अच्छे रैंक लेकर JRF में चयनित होकर आप PhD के तीन साल JRF तथा उसके बाद SRF के  लिए योग्य पात्र बनते हैं।

CSIR NET प्रतियोगी परीक्षा उत्तीर्ण कर विश्वविद्यालयों /कॉलेजों में लेक्चररशिप के लिए एलिजिबल होंगे?

उत्तर -जी हां CSIR NET की प्रतियोगी परीक्षा उत्तीर्ण कर आप  विश्वविद्यालयों /कॉलेजों में    लेक्चररशिप के लिए एलिजिबल हो  जाते हैं।

क्या UGC NET और CSIR NET दोनों एक ही है?

उत्तर – CSIR NET प्रतियोगी परीक्षा उन उम्मीदवारों के लिए होती है जो  विज्ञान से सबंधित विषयों से अपनी  पीजी की पढ़ाई पूरी करते हैं।जब कि NET अन्य विज्ञान के अलावा अन्य संकाय से जैसे B.com, B.tech  क्षेत्रों से पीजी की पढ़ाई पूरी करते हैं।

CSIR NET का full form क्या है और इस परीक्षा को आयोजित कौन करता है?

उत्तर – CSIR NET का full form scientific and industrial  research national eligibility test exam है। और यह  exam  NTA के द्वारा आयोजित किया जाता है।

CSIR NET की प्रतियोगी परीक्षा किन किन उम्मीदवारों द्वारा दिया जाता है?

उत्तर –  CSIR NET की प्रतियोगी परीक्षा विज्ञान संकाय से पीजी की पढ़ाई  पूरी किए छात्र छात्राओं के द्वारा  ही दिया जाता है।

रोशन एक्का AllGovtJobsIndia.in मुख्य संपादक के रूप में कार्यरत हैं,रोशन एक्का को लेखन के क्षेत्र में 5 वर्षों से अधिक का अनुभव है। और AllGovtJobsIndia.in की संपादक, लेखक और ग्राफिक डिजाइनर की टीम का नेतृत्व करते हैं। अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें। About Us अगर आप इस वेबसाइट पर लिखना चाहते हैं तो हमें संपर्क करें,और लिखकर पैसे कमाए,नीचे दिए गए व्हाट्सएप पर संपर्क करें-

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Disclaimer- प्रिय पाठको इस वेबसाइट का किसी भी प्रकार से केंद्र सरकार, राज्य सरकार तथा किसी सरकारी संस्था से कोई लेना देना नहीं है| हमारे द्वारा सभी जानकारी विभिन्न सम्बिन्धितआधिकारिक वेबसाइड तथा समाचार पत्रो से एकत्रित की जाती है इन्ही सभी स्त्रोतो के माध्यम से हम आपको सभी राज्य तथा केन्द्र सरकार की जानकारी/सूचनाएं प्रदान कराने का प्रयास करते हैं और सदैव यही प्रयत्न करते है कि हम आपको अपडेटड खबरे तथा समाचार प्रदान करे| हम आपको अन्तिम निर्णय लेने से पहले आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करने की सलाह देते हैं, आपको स्वयं आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करके सत्यापित करनी होगी| DMCA.com Protection Status