एग्रीकल्चर क्या है, एग्रीकल्चर में करियर कैसे बनाये ?

एग्रीकल्चर क्या है, एग्रीकल्चर में करियर कैसे बनाये ? 

किसी भी देश के इकोनॉमी में एग्रीकल्चर का सबसे बड़ा हाथ होता है। आज के समय में लोगो के बीच न्यू टेक्निक के साथ बागवानी, और फार्मिंग करने का क्रेज बढ़ रहा हैं । रिसर्च और इनोवेशन की वजह से एग्रीकल्चर के क्षेत्र में भी काफी ज्यादा विकास हुआ है l एग्रीकल्चर के साथ अपना करियर बनाते हुए एक तरफ जहां लोग खेती करने के हुनर को सीख कर उसके प्रोडक्शन को बढ़ा रहे हैं, तो वही दूसरी तरफ खेती करने की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए कई प्रकार के एडवांस टेक्नोलॉजी, मशीनरी और प्रोडक्ट के साथ कृषि का इंडस्ट्रीलाइजेशन कर रहे है , इस वजह से अब एग्रीकल्चर के फील्ड में भी काफी ज्यादा स्कोप अवेलेबल है l एग्रीकल्चर के क्षेत्र मे आप 12वीं के बाद एग्रोनोमी , बागवानी , हार्टिकल्चर जैसे अलग-अलग विषयों में डिग्री , डिप्लोमा , सर्टिफाइड कोर्स और यहां तक क़ि पीएचडी भी कर सकते हैं l अगर आप भी 12वीं एग्रीकल्चर में करियर बनाना चाहते है , तो ये आर्टिकल आपके लिए है , क्योंकि आज इस आर्टिकल में हम आपको क्या है एग्रीकल्चर, एग्रीकल्चर में करियर कैसे बनाये ? इसकी पूरी जानकारी देने वाले है :

एग्रीकल्चर क्या होता है ?

सभी तरह के फार्मिंग और पशुपालन से रिलेटेड काम एग्रीकल्चर अंतर्गत आते है। जिसमें फ़सल के प्रोडक्शन, प्रोडक्शन के प्रॉब्लम्स और सोलुशन के साथ पशुओं के जीविका, विकास और मानव उपयोगी आदि चीज़ों पर काम किया जाता है।

एग्रीकल्चर में करियर कैसे बनाएं ?

खेती, किसानी का काम अब सिर्फ गांव, देहात तक सीमित नही, बल्कि बदलते समय के साथ बाकी क्षेत्रों की तरह एग्रीकल्चर में भी काफ़ी बदलाव आये है। लोग एग्रीकल्चर की पढ़ाई के अलावा बेहतरीन स्किल्स, आईडियास के साथ क़ृषि का भी मॉर्डेनाइजेशन कर रहे है, जिसकी वजह से बीते कुछ समय में एग्रीकल्चर के कोर्स में स्टूडेंट का रुझान बढ़ा है, वही दूसरी ओर बिज़नेस और नौकरी के भी कई अवसर बने है। आइये अब जानते है कि एग्रीकल्चर फील्ड में करियर बनाने के लिए क्या करें :

    1. 12वीं के बाद आप एग्रीकल्चर सब्जेक्ट के साथ बैचलर और मास्टर डिग्री के कोर्स कर सकते है। बता दे कि इस कोर्स में एडमिशन के लिए कई यूनिवर्सिटी या स्टेट द्वारा एंट्रेंस एग्जाम लिया जाता है।
    1. आप 12वीं के पहले से ही एग्रीकल्चर एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करते है, तो बेहतर होगा।
    1. किसी भी सब्जेक्ट में ग्रेजुएशन करने के बाद एग्रीकल्चर फील्ड में सर्टिफिकेट या डिप्लोमा कोर्स भी किया जा सकता है।
    1. एग्रीकल्चर में कोई भी कोर्स कम्पलीट करने के बाद खुद का बिज़नेस भी कर सकते है। वैसे इसमें गवर्नमेंट जॉब्स के अलावा प्राइवेट सेक्टर में भी आज कई जॉब्स अवेलेबल है।
    1. एग्रीकल्चर में कई तरह के कोर्स है, आप डिमांड और स्कोप देखकर ही कोर्स को सेलेक्ट करें। जो आपके फ्यूचर को सिक्योर करने में हेल्प करेगा।
See also  Web Designer कैसे बने जाने पूरी जानकारी

एग्रीकल्चर कोर्सेस आफ्टर 12th इन हिंदी

जैसा कि हमने आपको पहले भी बताया है कि एग्रीकल्चर में कई तरह के कोर्स होते है, जिसमें कई अलग-अलग तरह के सब्जेक्ट होते है। आइये अब यहां कोर्स के साथ एग्रीकल्चर सब्जेक्ट से रिलेटेड जानकारी को डिटेल में समझते है :

एग्रीकल्चर कोर्स –

    1. बैचलर डिग्री – 4 year 

बैचलर ऑफ़ साइंस इन एग्रीकल्चर (BSc Agri)

बैचलर ऑफ़ साइंस (ऑनर्स) इन एग्रीकल्चर (BSc {hons}Agri)

बैचलर ऑफ साइंस इन क्रॉप फिजियोलॉजी (BSc Crop Phy)

    1. मास्टर डिग्री – 2 year 

मास्टर ऑफ साइंस इन एग्रीकल्चर (MSc Agri)

मास्टर आफ साइंस इन बायोलॉजिकल साइंस (MSc Bio)

मास्टर ऑफ साइंस इन एग्रीकल्चर बॉटनी (MSc Botany)

    1.  सर्टिफिकेट  कोर्स – 1 year 

सर्टिफिकेट कोर्स इन एग्रीकल्चरल साइंस

सर्टिफिकेट कोर्स इन फूड एंड बॉबेरेज सर्विस

सर्टिफिकेट कोर्स इन बायो फर्टिलाइजर प्रोडक्शन

    1. डिप्लोमा कोर्स – 1 year 

डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर

डिप्लोमा इन एग्रीकल्चर एंड एलाइड प्रैक्टिस

डिप्लोमा इन फूड प्रोसेसिंग

एग्रीकल्चर सब्जेक्ट –

एग्रीकल्चर के ग्रेजुएट और पोस्टग्रेजुएट कोर्स के अंतर्गत कई तरह सब्जेक्ट रहते है, जिसमें ग्रेजुएट कोर्स में एग्रोनोमी, बागवानी, होर्टिकल्चर, बायोलॉजी, बॉटनी, सॉइल (मिट्टी), पानी और पशु प्रबंधन आदि सब्जेक्ट होते है। एक बार एग्रीकल्चर में ग्रेजुएशन कंपलीट करने के बाद सॉइल साइंस, एग्रोनोमी, प्लांट पैथोलॉजी, प्लांट बायोकेमिस्ट्री, बायोटेक्नोलॉजी, एनिमल साइंस, एग्रीकल्चर इकोनॉमिक्स आदि स्पेशलाइजेशन सब्जेक्ट में आप पोस्टग्रेजुएशन कर सकते है।

एग्रीकल्चर करने के बाद क्या कर सकते हैं ?

एग्रीकल्चर फील्ड में हायर एजुकेशनल क्वालिफिकेशन पूरी करने और इंटर्न या समुचित ट्रेनिंग लेने के बाद सरकारी विभाग और प्राइवेट कंपनी में नौकरी के लिए प्रयास कर सकते हैं। आप बाकी गवर्नमेंट जॉब्स की तरह एग्रीकल्चर विभाग में निकलने वाले गवर्नमेंट पोस्ट के एग्जाम के लिए अलग से तैयारी करके अपने इंट्रेस्ट के अनुसार गवर्नमेंट जॉब पा सकते है। इसके अलावा आप एग्रीकल्चर से रिलेटेड कई छोटे-बड़े प्राइवेट कंपनी के साथ विदेशों में भी नौकरी कर सकते है। एग्रीकल्चर में पढ़ाई करने के बाद क़ृषि, पशु पालन आदि से रिलेटेड कोई बिज़नेस भी स्टार्ट कर सकते है।

बीएससी एग्रीकल्चर के बाद गवर्नमेंट जॉब।

भारत सरकार भी एग्रीकल्चर को बढ़ावा देने में लगातार प्रयासरत है, इसलिए भारत में एग्रीकल्चर में बीएससी करने के बाद कई गवर्नमेंट डिपार्टमेंट में बड़ी संख्या में जॉब्स की रिक्वायरमेंट बढ़ रही है। यहां हम आपको कुछ गवर्नमेंट डिपार्टमेंट की लिस्ट दे रहे है, जहां एग्रीकल्चर बेस्ड एम्प्लॉय की जरूरत होती है –

See also  मैकेनिकल इंजीनियरिंग क्या है, मैकेनिकल इंजीनियर कैसे बने?

भारत और राज्य सरकार के कृषि से रिलेटेड सम्बद्ध विभाग।

आईसीएआर के सभी रिसर्च सेंटर और स्टेट एग्रीकल्चर रिसर्च स्टेशन।

एग्रीकल्चरल साइंस सेंटर।

सॉइल एग्जामिनेशन सेंटर।

नेशनल सीड्स कॉरपोरेशन।

यूनियन एंड स्टेट मिनिस्ट्री ऑफ एग्रीकल्चर एंड एनिमल हस्बैंडरी डिपार्टमेंट।

मिनिस्ट्री ऑफ़ एयर, वॉटर एंड एनवायरनमेंट कंट्रोल।

बैंकिंग एंड फाइनेंसियल इंस्टीट्यूट।

एग्रीकल्चर में कौन-कौन सी जॉब होती है?

एग्रीकल्चर में पढ़ाई करने के बाद आप किसी भी रिलेटेड डिपार्टमेंट में मैनेजर, सुपरवाइजर, फूड सुपरवाइजर, रिसर्चर, सॉइल साइंटिस्ट, एंटरोलॉजिस्ट, एनिमल पैथोलॉजिस्ट, प्लांट पैथोलॉजिस्ट, हॉर्टिकल्चरिस्ट, एग्रोनॉमिस्ट, एनवायरमेंटल साइंटिस्ट, एनिमल स्पेशलिस्ट, एग्रीकल्चर इंजीनियर, एग्रीकल्चरल कंप्यूटर इंजीनियर, एग्रीकल्चरल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस  इंजीनियर, एग्रीकल्चरल फूड साइंटिस्ट, एग्रीकल्चरल रिसर्च ऑफिसर, एग्रीकल्चर ऑफिसर, प्लांट फिजियोलॉजिस्ट, सर्वे रिसर्च एग्रीकल्चर इंजीनियर, एनवायरमेंटल कंट्रोल इंजीनियर, माइक्रोबायोलॉजिस्ट, एग्रीकल्चर क्रॉप इंजीनियर, फिशरी मैनेजर, बोटेनिस्ट, सॉइल एंड प्लांट साइंटिस्ट, एग्रीकल्चरल लैब टेक्नीशियन आदि में से कोई भी जॉब्स के लिए एलिजिबल हो जायेंगे।

FAQ अक्सर पूछे जाने वाले सवाल:

1) एग्रीकल्चर कैसे करें?

एग्रीकल्चर की पढ़ाई करने संबधित सारी जानकारी इस आर्टिकल में दी गई है। 12वीं में 50% मार्क्स के साथ में आप किसी भी एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में सीधे या एंट्रेंस एग्जाम के माध्यम से एग्रीकल्चर कर सकते है।

2) क्या दसवीं के बाद एग्रीकल्चर कर सकते हैं?

जी हां, जो लोग एग्रीकल्चर में ज्यादा इंटरेस्ट रखते हैं, वो दसवीं के बाद एग्रीकल्चर पॉलिटेक्निक डिप्लोमा भी कर सकते हैं।

3) बीएससी एग्रीकल्चर कितने साल का होता है?

बीएससी एग्रीकल्चर 4 साल का बैचलर डिग्री कोर्स होता है।

4) एग्रीकल्चर के जॉब्स में कितना सैलरी होता है?

एक एग्रीकल्चर कर्मचारी, अधिकारी की सैलरी उसके पद के अनुसार निर्धारित होता है। एक गवर्नमेंट पद पर एग्रीकल्चर एम्प्लॉय का सैलरी अन्य भत्ता के अलावा मिनिमम 22000 प्रतिमाह से स्टार्ट होता है। जबकि प्राइवेट कंपनी में इससे कम और कई गुना ज्यादा भी होता है।

See also  एनडीए क्या है, एनडीए की तैयारी कैसे करें

5) क्या बीएससी एग्रीकल्चर में मैथ्स सब्जेक्ट होता है?

बीएससी एग्रीकल्चर में PCB यानि फिजिक्स, केमेस्ट्री, बायोलॉजी या PCM यानि फिजिक्स केमिस्ट्री मैथ्स में 12वीं पासआउट करने वाले एडमिशन ले सकते है। एग्रीकल्चर में भी मैथ्स सब्जेक्ट होता है, जिसे स्टूडेंट अपने चॉइस के अनुसार सेलेक्ट कर सकते है।

निष्कर्ष Conclusion : 

तो दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में हमने आपको क्या है एग्रीकल्चर, एग्रीकल्चर में करियर कैसे बनाएं? इससे रिलेटेड लगभग सारी जानकारी दी है। यदि आपको एग्रीकल्चर से रिलेटेड और भी कोई जानकारी चाहिए हो, तो कमेंट में जरूर बताएं और इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें ताकि आपकी तरह और लोगों को इससे हेल्प कर सके।

यह भी पढ़ें :

 

रोशन AllGovtJobsIndia.in मुख्य संपादक के रूप में कार्यरत हैं,रोशन को लेखन के क्षेत्र में 5 वर्षों से अधिक का अनुभव है। औरAllGovtJobsIndia.in की संपादक, लेखक और ग्राफिक डिजाइनर की टीम का नेतृत्व करते हैं। अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें। About Us अगर आप इस वेबसाइट पर लिखना चाहते हैं तो हमें संपर्क करें,और लिखकर पैसे कमाए,नीचे दिए गए व्हाट्सएप पर संपर्क करें-

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Disclaimer- प्रिय पाठको इस वेबसाइट का किसी भी प्रकार से केंद्र सरकार, राज्य सरकार तथा किसी सरकारी संस्था से कोई लेना देना नहीं है| हमारे द्वारा सभी जानकारी विभिन्न सम्बिन्धितआधिकारिक वेबसाइड तथा समाचार पत्रो से एकत्रित की जाती है इन्ही सभी स्त्रोतो के माध्यम से हम आपको सभी राज्य तथा केन्द्र सरकार की जानकारी/सूचनाएं प्रदान कराने का प्रयास करते हैं और सदैव यही प्रयत्न करते है कि हम आपको अपडेटड खबरे तथा समाचार प्रदान करे| हम आपको अन्तिम निर्णय लेने से पहले आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करने की सलाह देते हैं, आपको स्वयं आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करके सत्यापित करनी होगी| DMCA.com Protection Status
error: Content is protected !!