नर्सिंग र्कोस क्या है? नर्स कैसे बने? योग्यता सैलरी क्या होती है?

नमस्कार दोस्तों, आज इस लेख द्वारा हम आप को बतायेगे की नर्सिंग में आप अपना करियर कैसे बना सकते है नर्स कैसे बने? एक नर्स बनने के लिये क्या-क्या करना होता है इस लेख के माध्यम से आप को बताएंगे नर्सिंग र्कोस क्या है?

नर्सिंग करने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए ? नर्सिंग में क्या करियर है? एक नर्स की वेतन कितनी होती है? नर्सिंग के क्षेत्र क्या-क्या है? एएनएम (ANM) Nursing kya hai,जीएनएम (GNM) Nursing, बीएससी नर्सिंग की पूरी जानकारी हिंदी में दे रहे है। संपूर्ण जानकारी हिंदी में लेख को अंत तक पढ़े। 

नर्सिंग करने के बाद नौकरी कहां लगती है, इन सभी जानकारी को बहुत ही सरल भाषा में प्रस्तुत कर रहे है जाने पूरी जानकारी हिंदी में नर्सिंग क्या है?

आज हर एक छात्र एवं छात्राओं के मन मे यह प्रश्न उठता है कि 12वी पास करने के बाद हम क्या करे ? प्रश्न स्वाभाविक है चूकि हर विद्यार्थी अपना करियर बनाना चाहता और विशेष कर आज के इस कम्पीटिशन के समय में यह प्रश्न स्वाभाविक है। कुछ विद्यार्थी तो आगे पढ़ाई करने की सोचते है परन्तु कुछ विधार्थी आर्थिक  समस्या के कारण या कई अन्य कारणों से आगे पढ़ने की बजाय कुछ व्यावसायिक ट्रेनिंग करना ज्यादा पसंद करते हैं। परन्तु फिर यहाँ भी वे उलझन में पड़ जाते हैं कि कौन सी ट्रेनिंग करें जो मुझे अपनी मंजिल तक पहुँच सके। 

12वीं पास करने के पश्चचात, नर्सिंग ट्रेनिंग एक बहुत ही अच्छा विकल्प है, जिसके द्वारा आसानी से नौकरी प्राप्त किया जा सकता है।आज की बढ़ती हुई जनसंख्या एवं उसी रफ्तार से बढ़ती हुई बीमारी की वजह से आज न केवल अपने देश में बल्कि विदेशों में भी नर्सों की बहुत जरूरत है।नर्सिंग के क्षेत्र में नौकरी के अवसर बहुत ज्यादा है। नसिंग करने के पश्चात आप को अपने देश में ही नहीं परन्तु विदेशों मे भी नौकरी प्राप्त कर सकते है। 

अतः 12 वी पास करने के पश्चात जो छात्र एवं छात्राएँ चिकित्सा क्षेत्र में इच्छुक है एवं सेवा की भावना रखते हुए नौकरी प्राप्त करना चाहते हैं। उनके लिए नर्सिंग एक उपयुक्त विकल्प है। अतः नर्सिंग क्षेत्र में रोजगार प्राप्त करना है तो इस लेख को ध्यान से एवं अंत तक पढ़े जिससे आपको नर्सिंग के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त होगी ।

Table of Contents

इस लेख के द्वारा हम आप को निम्नलिखित विषय की जानकारी देंगे।

  • नर्सिंग र्कोस क्या है?
  • नर्सिंग की श्रेणीयॉ 
  • नर्सिंग की योग्यता
  • नौकरी प्राप्त करने के क्षेत्र

नर्सिंग क्या है ? Nursing Kya Hai 

nurse course kya hai
nurse ka course kaise kare

साधारण शब्दों में रोगी की सेवा सुश्रुषा को परिचर्या या नासिंग (Nursing) कहते है। नर्स वह होता है जो शिशु का पोशण करता है। परिचर्या का अर्थ उपकार एवं निष्ठावान सेवा से जाना जाता है।अतः यह कार्य सिर्फ स्त्री द्वारा ही नही बल्कि पुरुष वर्ग के द्वारा भी किया जा सकता है।

आज इस नर्सिंग के कार्य में पुरुष वर्ग भी दिलचस्पी ले रहे है। अतः 12 वी पास करने के पश्चात् जो छात्र – एवं छात्राएँ चिक्तिसा क्षेत्र में इच्छुक है और जिनके अन्दर सेवा की भावना है वे नर्सिग ट्रेनिग करने के पश्चात् एक अच्छी नौकरी प्राप्त कर सकते हैं।

इस के पूर्व नर्सिंग का यह कार्य सेवा भाव एवं दया के कार्यो तक ही सीमित था परन्तु चिकित्सा विज्ञान में नर्सिग के क्षेत्र मे अमूल्य परिवर्तन हुआ है, और अब यह धार्मिक संस्थाओं एवं सामाजिक संस्थाओं द्वारा दया की भावनाओं से प्रेरित सेवा मात्र नही रह गया बल्कि यह एक आजीविका का एक साधन बन गया है जिसके द्वारा एक अच्छी आमदनी प्राप्त कर सकते है।

नर्सिंग की श्रेणियाँ: यों तो नर्सिंग का कार्य रोगियों की सेवा करना एवं उनकी देखभाल करना है, परन्तु कार्य के प्रकृति के आधार पर इसे अलग अलग श्रेणीयों में बांटा गया है।नर्सिंग के क्षेत्र में कार्य के आधार पर अलग अलग र्कोस होते है छात्र अपनी योग्यता एवं रूचि के आधार पर कोई भी कोर्स का चयन कर सकते है।

See also  Chartered Accountancy(CA)- Qualification and Skills information

एएनएम (ANM) नर्सिंग क्या है ?ANM Nursing kya hai - kaise kare

यदि कोई चिकित्सा क्षेत्र में एक सहायक नर्स मिडवाइफरी अथवा हेल्थ वर्कर के रूप में नौकरी पाना चाहते हैं तो वह इस एएनएम नर्सिंग कोर्स के द्वारा शुरुआत कर सकते हैं इससे सहायक नर्स मिडवाइफ कहते हैं। इस कोर्स की अवधि 2 वर्ष की होती है। एएनएम (ANM) नासिंग में ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों विशेष कर बच्चों, माताओं एवं वृद्धि के स्वास्थ्य संबंधी जरूरतों की देखभाल के बारे में प्रशिक्षण दिया जाता है।

एएनएम (ANM) का फुल फॉर्म है: Auxiliary Nursing Midwifery

यह एक डिपलोमा र्कोस है जो विभिन्न वर्ग के लोगों को कैसे देख भाल करना है और उनकी सेवा करनी है के सम्बन्ध में प्रशिक्षण प्रदान करता है। एएनएम नर्सिंग प्राप्त र्नस मुख्यतः ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों की डेलीवरी में मदद करती है। साथ ही साथ माँ और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य की देख-भाल करती है। यह हेल्थ र्वकर के रूप में भी कार्य करती है।

एएनएम (ANM)नर्सिंग र्कोस की योग्यता एवं पात्रता: anm nursing course ki yogyata evam patrata

इस कोर्स में परीक्षण प्राप्त करने के लिए न्यूनतम आयु 17 से 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए। इस कोर्स मे प्रवेश पाने के लिए अभ्यार्थी को आर्टस या विज्ञान स्ट्रीम में किसी परीक्षण संस्थाओं से 12वी पास करना अनिवार्य है। 

एएनएम (ANM) नर्सिंग र्कोस में प्रवेश पाने के लिए 12वी मे 40 से 50% प्राप्त अंकों के साथ उत्तीर्ण होना आवश्यक है यह प्रतिशत अलग अलग राज्यों एवं अलग अलग शिक्षण संस्थाओं मे भिन्न भिन्न निर्धारित की गई है। 

एएनएम (ANM) नर्सिंग कोर्स की फीस : anm nursing course ki fees

एएनएम (ANM) नर्सिंग कोर्स की फीस कॉलेज एवं प्रदेश के नर्सिंग प्रशिक्षण स्कूल के आधार पर भिन्न हो सकती है। साधारणतयः सरकारी नर्सिंग प्रशिक्षण केंद्र की अपेक्षा प्राइवेट प्रशिक्षण केन्द्र में इसका फीस ज्यादा पायी जाती है। इस पाठ्यक्रम की न्यूनतम फीस लगभग 10,000 से 5 लाख रूपये की बीच हो सकती है।

एएनएम (ANM) नर्सिंग कोर्स पूरा करने के बाद अभ्यार्थी को अपना नाम किसी भी राज्य के र्निर्सग कउसिंल में पंजीकृत करना पड़ता है जो आप को रोज़गार प्राप्त करने में मदद करता है।

एएनएम. (ANM) नर्सिंग – पाठ्यक्रम nam nursing syllabus kya hai

ए.एन.एम (NAM) नर्सिंग का प्रशिक्षण 2 वर्ष का है, और इस पठ्यक्रम में ग्रामीण क्षेत्र के रहने वाले विशेष कर बच्चों, माताओं और वृद्ध व्यक्तियों के स्वास्थ्य सम्बन्धी आवश्यकताओं एवं उनकी देखभाल के बारे में प्रशिक्षण दिया जाता है। इस पाठ्यक्रम में विशेष रूप से प्रकृति से संबंधित प्रशिक्षण दिया जाता है।

एएनएम. (ANM) नर्सिंग का पाठ्यक्रम निम्नलिखित रूप में दर्शाया गया है:

सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंगसंचारी रोग
पोषणबाल स्वास्थ्य देखभाल
पर्यावरण स्वच्छता
दाई का काम
स्वच्छता
मानसिक स्वास्थ्य
संक्रमण और टीकाकरण
स्वास्थ्य केंद्र प्रबंधन
प्राथमिक चिकित्सा

जीएनएम (GNM) Nursing कोर्स क्या है? gnm nursing course kya hai

जीएनएम (GNM) को जनरल नर्सिंग और मिड्वाइफ़री कहा जाता है। जिसका फुल फॉर्म है General Nursing and Midwifery इसे हम स्टाफ नर्स  भी कहते है। जनरल नर्सिंग और मिडवाइफरी का कोर्स तीन साल का होता है। इस कोर्स मे सामान्य स्वास्थ्य देखभाल नर्सिंग और दाई के कार्य से संबंधित परीक्षण दिया जाता है। 

जीएनएम नर्सिंग पाठ्यक्रम में सामान्य नर्सों के कार्य से संबंधित परीक्षण दिया जाता है। यह कोर्स छात्र एवं छात्राओं दोनों के लिए खुला है, अर्थात न केवल महिला बल्कि पुरुष भी यह कोर्स कर सकते है और चिकित्सा के क्षेत्र में अपना भविष्य बना सकते है। 

जी.एन.एम का फुल फॉर्म है: General Nursing and Midwifery

जी.एन.एम (GNM) नर्सिंग कोर्स की अवधि तीन वर्ष तक की होती है इस कोर्स मे प्रवेश पाने के लिए अभ्यर्थी को कम से कम 40 से 50 प्रतिशत अंक के साथ अंग्रेजी भौतिकी रसायन एवं बायोलॉजी विषय के साथ 12वीं पास करना जरूरी है अभ्यर्थी की उम्र 17 वर्ष से 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

जीएनएम (G.N.M) Nursing कोर्स में भर्ती होने के लिए नर्सिंग प्रवेश परीक्षा मे भाग लेना आवश्यक है और मेरिट अंकों के आधार पर इस कोर्स में अभ्यर्थी को दाखिला दिया जाता है, जनरल नर्सिंग मिडवाइफरी का पाठ्यक्रम 3 वर्ष का होता है, पाठ्यक्रम के समाप्ति के पश्चात अभ्यार्थी को किसी भी राज्य के नर्सिंग काउंसलिंग में पंजीकरण करना अवश्य है।

जो आपको नौकरी प्राप्त करने में सहायता करता है यह एक सर्टिफिकेट कोर्स है इस कार्य में दक्षता प्राप्त करने हेतु 1 साल का डिप्लोमा कोर्स कर अच्छी वेतन पर नौकरी प्राप्त कर सकते है।

इस कोर्स को पूरा करने के पश्चात आप सरकारी नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं इसके अलावा आप किसी भी प्राइवेट अस्पताल में नौकरी के लिए आवेदन दे सकते हैं।

इसके अलावा नर्सिंग संस्थानों नर्सिंग हेल्थ विभागों में नर्सिंग होम में भी नौकरी प्राप्त कर सकते है। यह कोर्स पूरा होने के बाद आप खाली नहीं बैठ सकते हैं आपको नौकरी के अवसर खुल जाते हैं। 

आप किसी भी हॉस्पिटल मे एक स्टाफ नर्स की पद पर नौकरी प्राप्त कर सकते है, इस कोर्स को पूरा करने के लिए  सरकारी संस्थानों में लगभग 30,000 रुपए और प्राइवेट संस्थानों में इसकी फीस करीबन 100000 तक होती है जीएनएम नर्सिंग की पाठ्यक्रम 3 वर्ष का होता है जिसका विवरण हम नीचे दे रहे हैं।

See also  Web Designer कैसे बने जाने पूरी जानकारी

जीएनएम (GNM) Nursing पाठ्यक्रम : 

प्रथम वर्ष -जैविक विज्ञान, शरीर रचना विज्ञान और शरीर विज्ञान,कीटाणु-विज्ञान,व्यावहारिक विज्ञान ,मनोविज्ञान ,नागरिक सास्त्र ,नर्सिंग की बुनियादी बातें ,प्राथमिक चिकित्सा ,व्यक्तिगत स्वच्छता, सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग ,पर्यावरण स्वच्छता
द्वितीय वर्ष -मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग I, मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग,औषध, मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग II,संचारी रोग, आर्थोपेडिक नर्सिंग , कान, नाक और गला,कैंसर विज्ञान / त्वचा ,ऑप्थाल्मिक नर्सिंग,मानसिक स्वास्थ्य और मनोरोग नर्सिंग, मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग I
तृतीय वर्ष -
मिडवाइफरी और गायनोकोलॉजी नर्सिंग, सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग- II, बाल चिकित्सा नर्सिंग, इंटर्नशिप अवधि, नर्सिंग शैक्षिक तरीके और मीडिया, अनुसंधान के लिए परिचय, व्यावसायिक रुझान और समायोजन, प्रशासन और वार्ड प्रबंधन,स्वास्थ्य अर्थशास्त्र,मिडवाइफरी और गायनोकोलॉजी नर्सिंग,
सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग- II








बीएससी (B.S.C Nursing) :

बी.एस.सी नर्सिंग का फुलफॉर्म है: बीएससी बैचलर ऑफ़ साइंस नर्सिंग

यह एक  डिग्री कोर्स है जो 12वीं कक्षा पास करने के बाद किया जाता है इस कोर्स में प्रवेश प्राप्त करने के लिए छात्र को अंग्रेजी भौतिक शास्त्र रसायन एवं बॉयोलॉजी विषय के साथ 12वीं कक्षा पास करना जरूरी है अलग-अलग राज्यों एवं अलग-अलग सरकारी अस्पतालों प्राइवेट अस्पतालों कॉलेजों एवं शिक्षा संस्थानों में 12वीं में प्राप्त अंकों का प्रतिशत का मापदंड अलग अलग निर्धारित की गई है, कही यह मापदंड 45% रखा गया है तो कही इसका मापदंड 50% रखा गया है।

बी.एस.सी नर्सिंग कोर्स मे प्रवेश पाने के लिए पूर्व परीक्षा मे भाग लेना आवश्यक है इस पूर्व परीक्षा में उत्तीर्ण होने पर ही आप बी.एस.सी नर्सिंग में प्रवेश पाने के पात्र बन सकते हैं अधिकतर अच्छे संस्थानों में नर्सिंग पूर्व परीक्षा के आधार पर परीक्षण के लिए भर्ती किया जाता है बी.एस.सी नर्सिंग परीक्षा में प्रवेश पाने के लिए कम से कम 17 वर्ष की आयु होनी चाहिए बीएससी नर्सिंग का कोर्स 3 से 4 वर्ष का होता है।

बी.एस.सी नर्सिंग कोर्स की फीस अलग अलग राज्य के आधार पर अलग-अलग संस्थानों, कॉलेजों, अस्पतालों एवं व्यावसायिक शिक्षण संस्थानों में अलग-अलग होती है। सरकारी कॉलेज एवं सरकारी सहायता प्राप्त कॉलेज एवं अन्य शिक्षण संस्थानों की फीस निजी कॉलेज एवं शिक्षण संस्थानों से कम होती है।

बी.एस.सी नर्सिंग कोर्स की औसतन फीस प्रतिवर्ष 8000 से 30000 के लगभग है वही निजी संस्थानों में इसकी वार्षिक फीस लगभग 40,000 से 18,000 तक हो सकती है।

कई संस्थाएं प्रतिभाशाली छात्रों को प्रवेश परीक्षा में प्राप्त अंकों मेरिट के आधार पर छात्रवृत्ति प्रदान करते हैं छात्रवृत्ति की राशि और इसकी अवधि अलग-अलग राज्यों में एवं अलग-अलग संस्थानों में भिन्न-भिन्न होती है।

बी.एस.सी नर्सिंग का मासिक  वेतनमान 48 से 72 हजार तक होती है। 

बीएससी नर्सिंग रोजगार अवसर: बी.एस.सी नर्सिंग  कोर्स पूरा करने के पश्चात अभ्यार्थी को अपना नाम किसी भी राज्य के नर्सिंग काउंसलिंग में रजिस्ट्रेशन करना आवश्यक है जो आपको रोजगार प्राप्त करने में मदद करता है देश की बढ़ती हुए जनसख्या एवं उसकी रफ्तार से बढ़ती हुई बीमारी की वजह से इस क्षेत्र में रोजगार के अवसर बढ़ गए हैं आज एक प्रशिक्षित नर्स खाली नहीं बैठ सकता या सकती है इसलिए नर्सों की मांग केवल अपने देश में ही नही  बल्कि विदेशों में भी बढ़ती जा रही है / इस प्रकार से  हर क्षेत्र में नर्सिंग के अवसर खुले हुए हैं। जैसे: सरकरी अस्पतालों मे, सरकारी संस्थानों में, प्राइवेट अस्पतालों मे, नर्सिंग होम मे, इंडस्ट्रियल क्षेत्र मे, स्कूलों में कॉलेजों में,हेल्थ सेंटर मे, रेलवे मे, सैनिक अस्पतालों में आदि

बीएससी नर्सिंग कोर्स करने के पश्चात उसे किसी भी अस्पताल में एक स्टाफ नर्स के पद पर एक अच्छा वेतन पर नौकरी मिल जाती है जहां उन्हें मरीजों की देखभाल करना समय-समय पर उन्हें डॉक्टर के निर्देश अनुसार मरीजों को दवा देना और डॉक्टरों  के कार्य में सहयोग प्रदान करना है।

बीएससी नर्सिंग करने के पश्चात किसी भी सरकारी व प्राइवेट अस्पताल में नौकरी प्राप्त कर सकते हैं आज के देश दुनिया में जिस तेजी से नए-नए हॉस्पिटल खुल रहे हैं और रोगियों की संख्या बढ़ रही है उसी रफ़्तार मे नर्सों की जरूरत भी बढ़ती जा रही है।

नर्सिंग के क्षेत्र में रोजगार के अवसर: 

-इसके द्वारा निम्नलिखित क्षेत्रों में रोजगार के अवसर प्राप्त कर सकते हैं 

  1. सरकारी एवं प्राइवेट अस्पतालों
  2. नर्सिंग होम एवं प्राइवेट क्लिनिक
  3. इंडस्ट्रियल एवं फैक्ट्री के क्षेत्र में
  4. रक्षा विभाग में
  5. रेलवे विभाग में नर्सिंग की नौकरी
  6. कॉलेज एवं विश्वविद्यालयों में
  7. नर्सिंग साइंस स्कूल में
  8. हेल्थ विभाग में
  9. इंडियन रेड क्रॉस सोसायटी, सोसाइटी इंडियन नर्सिंग काउंसलिंग, स्टेट नर्सिंग काउंसलिंग के क्षेत्र में
  10. गांव से लेकर शहर तक के सभी प्राथमिक चिकित्सक केंद्रों एवं प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों
  11. कम्युनिटी हेल्थ सेंटर,अनाथ आश्रम, वृद्ध आश्रम, आरोग्य निवास
  12. दवाइयों की कंपनियों में
  13. स्पेशल क्लीनिक केयर सेंटर में

बी.एस.सी नर्सिंग मे नौकरी प्रकार: 

– कार्य के प्रकृति के अनुसार बीएससी नर्सिंग के कार्य अलग-अलग रूप में पाए जाते हैं, जो निम्नलिखित है: 

  • एक नर्स के रूप में
  • एक नर्स प्रबंधक के रूप में
  • असिस्टेंट के रूप में
  • नर्स एवं रोगी शिक्षक के रूप में
  • नर्सिंग कॉलेज एवं नर्सिंग स्कूल में एक शिक्षक के रूप में
  • नर्सिंग ट्यूटर के रूप में
  • होम केयर नर्सिंग रूप में
  • वार्ड इंचार्ज के रूप में
  • संक्रमण नियंत्रण नर्स के रूप में
See also  होटल मैनेजमेंट (Hotel Management) क्या है और कैसे करे?

-बीएससी नर्सिंग करने के बाद अपने करियर में आगे बढ़ना चाहते हैं तो आप बी.एस.सी ऑनर्स नर्सिंग, एम.एस.सी नर्सिंग, M.Phl नर्सिंग एवं नर्सिंग पी.एच.डी  भी कर सकते हैं

इसके अलावा आप एक वर्षीय डिप्लोमा कोर्स करके इन क्षेत्रों में विशेषता प्राप्त कर सकते हैं:

  • साइकेट्रिक नर्सिंग
  • कार्डियोलॉजी नर्सिंग
  • न्यूरोसाइंस नर्सिंग
  • क्रिटिकल केयर नर्सिंग
  • पीडियाट्रिक नर्सिंग
  • ऑर्थोपेडिक नर्सिंग
  • नेफ्रोलॉजी कल नर्सिंग
  • आनलॉजिकल नर्सिंग

नोट: उपर्युक्त डिप्लोमा कोर्स को जीएनएम एवं एनएम नर्सिंग भी  कर सकते है 

बी.एस.सी नर्सिंग पाठ्यक्रम

प्रथम वर्ष : एनाटॉमी ,फिजियोलॉजीपोषण,जीव रसायन,हिंदी या क्षेत्रीय भाषा, लाइब्रेरी कार्य,सह पाठ्यक्रम गतिविधि,नर्सिंग फाउंडेशन,मनोविज्ञान,कीटाणु-विज्ञान,कंप्यूटर का परिचय
द्वितीय वर्ष :नागरिक शास्त्र,औषध,पैथोलॉजी और जेनेटिक्स,लाइब्रेरी कार्य,सह पाठ्यक्रम गतिविधियां,मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग, सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग,संचार और शैक्षिक प्रौद्योगिकी,नागरिक शास्त्र,औषध,पैथोलॉजी और जेनेटिक्स
तृतीय वर्षदाई का काम और प्रसूति नर्सिंग,लाइब्रेरी कार्य,सह पाठ्यक्रम गतिविधियां,मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग,बाल स्वास्थ्य नर्सिंग,मानसिक स्वास्थ्य नर्सिंग
चतुर्थ वर्षदाई का काम और प्रसूति नर्सिंग,सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग- II,नर्सिंग रिसर्च एंड स्टेटिस्टिक्स,नर्सिंग सर्विसेज और शिक्षा का प्रबंधन,लाइब्रेरी कार्य,सह पाठ्यक्रम गतिविधियां,दाई का काम और प्रसूति नर्सिंग

 नर्सिंग टॉप 23 कॉलेजेस :

  • ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एम्स दिल्ली
  • क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज सीएमसी वेल्लोर
  • आर्म्ड फोर्सज मेडिकल कॉलेज पुणे
  • जवाहरलाल इंस्टीट्यूट ऑफ पोस्ट ग्रेजुएट एजुकेशन एंड रिसर्च [JIPMER] पांडिचेरी
  • मद्रास मेडिकल कॉलेज [MMC] चेन्नई
  • किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी [KGMU] लखनऊ
  • श्री रामचंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ हायर एजुकेशन एंड रिसर्च चेन्नई
  • गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज [GMC] अमृतसर
  • इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस वाराणसी-उत्तर प्रदेश
  • भारती विद्यापीठ DEEMED यूनिवर्सिटी [BVDU] पुणे-महाराष्ट्र
  • अन्नामलाई यूनिवर्सिटी चिदंबरम तमिलनाडु
  • लोकमान्य तिलक म्युनिसिपल मेडिकल कॉलेज [LTMMAC] -मुंबई
  • वनस्थली विद्यापीठ जयपुर राजस्थान -राजस्थान
  • क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज लुधियाना -पंजाब
  • इंस्टिट्यूट ऑफ़ पोस्टग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च [IPGMER]-कोलकाता
  • बेंगलुरु मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट [BMCRI]-बेंगलुरु
  • अपोलो कॉलेज ऑफ नर्सिंग अपोलो हेल्थ सिटी हैदराबाद
  • अपोलो कॉलेज ऑफ नर्सिंग-चेन्नई
  • श्री रामचंद्र मेडिकल यूनिवर्सिटी चेन्नई कॉलेज ऑफ नर्सिंग-चेन्नई
  • बीएम बिरला कॉलेज ऑफ़ नर्सिंग-कोलकाता
  • एसएनडीटी फैकल्टी ऑफ़ नर्सिंग-मुंबई
  • टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल नर्सिंग-मुंबई
  • आरकेके कॉलेज ऑफ नर्सिंग-दिल्ली

FAQ अक्सर पूछे जाने वाले सवाल:

बीएससी नर्सिंग की सरकारी फीस कितनी है?

बी.एस.सी नर्सिंग कोर्स की औसतन फीस प्रति वर्ष 8000 से 30000 के लगभग है वही निजी संस्थानों में इसकी वार्षिक फीस लगभग 40,000 से 18,000 तक हो सकती है।

बीएससी नर्सिंग कोर्स कितने साल का होता है ?

बीएससी नर्सिंग का कोर्स 3 से 4 वर्ष का होता है।

बीएससी नर्सिंग कोर्स क्या है ?

बैचलर ऑफ़ साइंस इन नर्सिंग यह एकअंडर ग्रेजुएट नर्सिंग कोर्स है। जो 12th के बाद किया जाता है, ये कोर्स 3 से 4 साल का होता है।

बीएससी नर्सिंग और जीएनएम में क्या अंतर है?

बीएससी नर्सिंग में डिग्री मिलती है वही जीएनएम डिप्लोमा कोर्स है जीएनएम में डायरेक्ट एडमिशन मिलता है वही बीएससी में एंट्रेंस टेस्ट देना होता है। बीएससी में साइंस बायोलॉजी वाला एडमिशन ले सकता है वही जीएनएम में किसी भी विषय वाला एडमिशन ले सकता है।

नर्स बनने के लिए बेस्ट सरकारी कॉलेज कौन सा है?

अगर आप नर्स बनना चाहते हो तो आप अपनी नर्सिंग ऑल इंडिया मेडिकल इंस्टीट्यूट एम्स से करें जहा आपकी फीस भी कम है और शिक्षा का स्तर भी उच्च है।

क्या 12th के बाद नर्सिंग किया जा सकता है ?

जी हां आप 12th के बाद नर्सिंग कर सकते हैं इसके लिए आपको जीएनएम कोर्स में एडमिशन लेना होगा। इस कोर्स की समय अवधि 3 साल की होती है ।

एएनएम नर्सिंग क्या है ?

एएनएम नर्सिंग एक डिप्लोमा कोर्स है जो 12th के बाद किया जाता है इसकी अवधि 2 साल की होती है जिसमें स्वास्थ्य देखभाल से संबंधित पाठ्यक्रम पढ़ाया जाता है।

क्या आर्ट्स और कॉमर्स वाले भी नर्सिंग कर सकते हैं ?

जी हां आर्ट्स और कॉमर्स वाले भी नर्सिंग कर सकते हैं इसके लिए आपको जीएनएम जनरल नर्सिंग और मिडवाइफरी कोर्स मे दाखिला लेना होगा। इस कोर्स की अवधि 3 साल की होती है।

निष्कर्ष: Conclusion 

आशा है आप को ये लेख जरुर पसंद आया होगा नर्सिंग क्या है? कैसे करे ? इस लेख द्वारा हम ने आपको नर्सिंग से जुडी हुई वो सभी जानकारी बताने का प्रयास किया है जो आप जानना चाहते थे, जैसे कि नर्सिंग क्या है? नर्सिंग के विभिन्न क्षेत्र  क्या है, नर्सिंग के टॉप सरकारी तथा प्राइवेट कॉलेज क्या है?

नर्सिंग का पाठ्यक्रम और उससे जुड़ी सभी जानकारी बताइए है  यदि आप नर्सिंग कर लेते हो तो आप को सैलरी कितनी मिलती है, ऐसी ही बहुत सारी जानकारी इस लेख द्वारा बताया गया है, हमने आपको एएनएम के बारे में बताया, जीएनएम के बारे में बताएं, बीएससी नर्सिंग क्या है की संपूर्ण जानकारी दी है आशा है आपको सभी जानकारी मिल गई होगी, अगर आप इसके अतिरिक्त नर्सिंग से संबंधित कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं तो हमें कमेंट करें हमें आपके कमेंट का इंतजार रहेगा धन्यवाद!

यह भी पढ़ें :

रोशन AllGovtJobsIndia.in मुख्य संपादक के रूप में कार्यरत हैं,रोशन को लेखन के क्षेत्र में 5 वर्षों से अधिक का अनुभव है। औरAllGovtJobsIndia.in की संपादक, लेखक और ग्राफिक डिजाइनर की टीम का नेतृत्व करते हैं। अधिक जानने के लिए यहां क्लिक करें। About Us अगर आप इस वेबसाइट पर लिखना चाहते हैं तो हमें संपर्क करें,और लिखकर पैसे कमाए,नीचे दिए गए व्हाट्सएप पर संपर्क करें-

2 thoughts on “नर्सिंग र्कोस क्या है? नर्स कैसे बने? योग्यता सैलरी क्या होती है?”

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Disclaimer- प्रिय पाठको इस वेबसाइट का किसी भी प्रकार से केंद्र सरकार, राज्य सरकार तथा किसी सरकारी संस्था से कोई लेना देना नहीं है| हमारे द्वारा सभी जानकारी विभिन्न सम्बिन्धितआधिकारिक वेबसाइड तथा समाचार पत्रो से एकत्रित की जाती है इन्ही सभी स्त्रोतो के माध्यम से हम आपको सभी राज्य तथा केन्द्र सरकार की जानकारी/सूचनाएं प्रदान कराने का प्रयास करते हैं और सदैव यही प्रयत्न करते है कि हम आपको अपडेटड खबरे तथा समाचार प्रदान करे| हम आपको अन्तिम निर्णय लेने से पहले आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करने की सलाह देते हैं, आपको स्वयं आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट करके सत्यापित करनी होगी| DMCA.com Protection Status
error: Content is protected !!